उतार फ़ेंक दो- A poem on society’s hypocrisy towards women.

अब और न सह पाऊँगी मैं
क्या तुम्हे दया नहीं आती?